गुरुवार, 8 मई 2008

सामूहिक गरियाने की गणित, लाभ व उपयोग

हाल ही में एक बंधु ने हम पर मज़ाकिया आरोप लगाया कि हम अपने कुछ साथियों को गरियाये रहे। उस समूह के हम स्वयं भी जबरिया सदस्य हैं। सही बात तो यह है कि हमने वास्तव में गरियाया तो नहीँ ही था, पर जब इस पर कुछ ध्यान गया, विचार-मंथन किया तो कुछ विचार अमूल्य रत्न की भाँति मिले। कुछ-कुछ वैसे ही - जैसे कि दूघ के मंथन से मक्खन या जैसे देवासुर समुद्र मंथन होने पर, पहले हलाहल व उसके बाद अलभ्य रत्न मिले थे।

हलाहल तो हम पी(क) गये! विचार रत्नों को आपके साथ बाँटते हैं।

-------------------------------------------------------------------

गरियाने से नुकसान तो जो होता हो वह तो मालूम नहीँ, पर उससे कुछ तो फायदे होते हैं ही। गरियाने की परम्परा निश्चय ही उतनी ही प्राचीन होगी जितनी कि मानव-सभ्यता। शायद यह प्रकृति प्रदत्त वरदान हो, शायद मनोवैज्ञानिक भी मानते हों कि गरियाने से मन पर बोझ हट जाता हो! निर्बल का संबल है यह। यहाँ पर हम गरियाने के एक विशिष्ट स्वरूप की बात कर रहे हैं।

गरियाने से हमें कोई उज्र भी नहीँ। अपने आप पर भी! सामूहिक तौर पर गरियाने की बात कहें तब तो बेहिचक अनेक अवसरों पर गरिया चुके हैं, जब उस समूह में हम स्वयं भी हों।

अजी, बड़ा आनन्द आता है!

वह कैसे?

आप मात्र अपने आप को गरियाने की कीमत पर पूरे समूह को बुरा भला कहते हैं। सामान्यत: कोई आपको कुछ कहता भी नहीँ क्योंकि आप स्वयं उस समूह के सदस्य होते हैं। आप एक सदस्य के बराबर स्वयं को गरियाने के एवज में अनेक लोगों को गरियाने का आत्म-सुख प्राप्त करते हैं। नफे-नुकसान की दृष्टि से देखें तो भी यह मेरे विचार से नुकसान का सौदा नहीँ।

गणित
ऐकिक नियम के हिसाब से भी यदि उदाहरण देखें:
- आप यदि एक व्यक्ति को गरियाते है तो आप को (1अ) मात्रा में सुख मिलता है
- यदि आप 10 व्यक्तियों के समूह को, जिसके आप भी सदस्य हैं, गरियाते है तो

यदि 1 व्यक्ति को गरियाने का सुख = (1अ)
तब 10 व्यक्तियोँ को गरियाने का सुख = 10 x (1अ) = (10अ)
घटायें:
(स्वयं के ऊपर गरियाने से न मिलने वाला सुख) = - (1अ)
(अपने ऊपर गरियाने से मिलने वाले दुख: के लिये) = - (1अ)

शेष = (10अ) - (2अ) = (8अ)
वाह! कैसा लाभ है यह प्रभो!

कुछ उपयोग
1.) यदि आप के साथी कर्मचारियों / कार्य संस्थान का रवैया आपको खराब लगता है तो आप स्वयं उस संस्था/समूह/कम्पनी के सभी लोगों की कार्य-प्रणाली पर गरिया सकते हैं। आप की बात में कोई आत्मश्लाघा भी नहीं दिखेगी और आप को सामूहिक रूप से गरियाने का उपरिवर्णित नियम के अनुसार सुख भी मिलेगा

2.) यदि आपको अपने पड़ोसी, मुहल्ले वालों को किसी बात पर गरियाना है, तब भी चाहे दबी ज़ुबान में ही सही, सभी मुहल्ले वालों को, स्वयं को भी विशेष रूप से शामिल करते हुए गरियायें।

3.) प्रत्यक्ष उदाहरण देखें - जो हम सभी ने प्राय: अनुभव किया होगा। सभी देशवासियों पर, सामूहिक रूप से, उनकी किसी भी प्रवृत्ति पर गरियाने से जो करोड़ों गुना (क्षणिक ही सही) सुख और अपनी कर्तव्यपरायणता का संतोष मिलता है, उसका अनुभव हममें से बहुतों ने अनेकों बार किया होगा।

चुम्बकीय बिंदु
1.) चूँकि परोक्ष रूप से आप अपने को भी गरिया रहे होते हैं, इसलिये लोगों में आपकी सत्यवादिता और न्यायप्रियता की भी छवि बनेगी। आखिर आप कोई अपने स्वार्थे हित की बात करते तो नहीँ ही जान पड़ते, तो कोई अपनी भी बुराई क्योंकर करेगा? आखिर बात में कुछ दम तो होगी ही न?

2.) यदि इस प्रकार सामूहिक रूप से गरियाने की आदत बनाना है तो एक बात का और भी ध्यान रखना होगा। गरियाने के विपरीत कभी-कभी किसी की प्रशंसा भी कर दें, बहुत कम, बस यदा कदा ही, विशेषकर जब गरिया पाने का किंचित मात्र भी कारण / अवसर न हो। इससे होगा यह कि, आपके ऊपर सदा ही गरियाने वाला जैसी मुहर नहीँ लगेगी और लोगों में यह विश्वास बढ़ेगा कि आप उचित, व्यक्ति की, उचित कारणों से प्रशंसा भी करते हैं। हाँ इस मंत्र का प्रयोग वैसे ही मर्यादित (Limited) रूप से करें, जैसे कि दाल में नमक - या फिर यह कहें कि खाद्य पदार्थों में सुगन्धि का प्रयोग।

3.) जैसे, जैसे आपकी सत्यवादिता की छवि बढ़ेगी, आपके गरियाने को वरीयता / मान्यता प्राप्त होगी और शायद आपके प्रति व्यक्ति गरियाने से प्राप्त आत्म-सुख की दर में भी वृद्धि होगी

4.) अंत में एक आत्म संतुष्टि और अपने को बचाने का असरदार उपाय - पहले तो आप सभी के साथ स्वयं को गरिया लेते हैं, सुख लूट लेते हैं। फिर भी यदि आत्म-ग्लानि शेष हो तो अपने को व अन्य आत्मीय जनों को यह समझा सकते हैं कि आप स्वयं तो अपवाद हैं। अब नियम हैं तो अपवाद भी होंगे ही - आखिर लंका में सभी असुर थोड़े ही थे

8 टिप्‍पणियां:

अनूप शुक्ल ने कहा…

हमने तो आप पर कभी आरोप नहीं लगाया कि आप हमको गरियाते हैं। कौन से ग्रुप के सदस्य हो गये जी आप? आप जबरिया हम पर तोहमत लगा रहे हैं।लेकिन इसी बहाने आपने बड़े धांसू एकिक नियम बता दिये। बधाई!

काकेश ने कहा…

सबसे पहले उन बंधू को धन्यवाद जिन्होने आपसे मजाकिया चुहल की और आप पूरे 6 महीने दस दिन
के अंतराल के बाद मौन व्रत तोड़ अपने धांसू शोध के साथ अवतरित हुए.यह शोध इसी तरह चालू
रहे यही कामना है.

रहीम दास जी ब्लॉगिंग के लिये कह गये हैं.

रहिमन गारी दीजिये,बिन गारी सब सून
ब्लॉगिंग में पैसा बने,मन को आये सुकून

Udan Tashtari ने कहा…

हमें तो बस आप आये बहार आये वाली बात है. जो हुआ हो जो सोचा हो..क्या करना. बस आ जाईये. :) आपका आना ज्यादा जरुरी है.

रोज लिखिये.


आगे:
-----------------------------------


आप हिन्दी में लिखते हैं. अच्छा लगता है. मेरी शुभकामनाऐं आपके साथ हैं इस निवेदन के साथ कि नये लोगों को जोड़ें, पुरानों को प्रोत्साहित करें-यही हिन्दी चिट्ठाजगत की सच्ची सेवा है.

एक नया हिन्दी चिट्ठा भी शुरु करवायें तो मुझ पर और अनेकों पर आपका अहसान कहलायेगा.

इन्तजार करता हूँ कि कौन सा शुरु करवाया. उसे एग्रीगेटर पर लाना मेरी जिम्मेदारी मान लें यदि वह सामाजिक एवं एग्रीगेटर के मापदण्ड पर खरा उतरता है.

यह वाली टिप्पणी भी एक अभियान है. इस टिप्पणी को आगे बढ़ा कर इस अभियान में शामिल हों. शुभकामनाऐं.

Gyandutt Pandey ने कहा…

गरियाने में आठवीँ का गणित नहीं, कैल्क्युलस लगती है।
गरियाने के लाभ में एक्स्पोनेंशियल फंक्शन का इण्टीग्रेशन होता है! :)

जोशिम ने कहा…

सही बड़े लाभ हैं - वैसे गरियाने का सुख अंकगणित के हिसाब से ? सस्ते में निबटा रहे हैं - अपना अनुभव कहता है - उदाहरण के लिए - सामने वाले को गरियाए तो थोड़ा हल्के हो गए - यू पी (समूह) को गरियाया तो करोड़ों गुना ज्यादा हल्के ? ना जी ना - मनीष

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

अब नियम हैं तो अपवाद भी होंगे ही - आखिर लंका में सभी असुर थोड़े ही थे"

वाह, कितनी बड़ी आत्म-संतुष्टि. रोचक आलेख.

poemsnpuja ने कहा…

वैसे तो हम कहीं भी मैथ देखते ही पतली गली से भाग लेते हैं पर यहाँ उसके साथ बहुत सारा ज्ञान मिल रहा था तो ठहर गए...आपके आंकडे बिलकुल सही खबर दे रहे हैं. इस शोध के लिए बधाई.

जबलपुर-ब्रिगेड ने कहा…

सारे गणित साफ़ हो गए का आड में झाड क्या लगा
आनंददायक पोष्ट